Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Salil Saroj

सलिल सरोज जन्म: 3 मार्च,1987,बेगूसराय जिले के नौलागढ़ गाँव में(बिहार)। शिक्षा: आरंभिक शिक्षा सैनिक स्कूल, तिलैया, कोडरमा,झारखंड से। जी.डी. कॉलेज,बेगूसराय, बिहार (इग्नू)से अंग्रेजी में बी.ए(2007),जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय , नई दिल्ली से रूसी भाषा में बी.ए(2011), जीजस एन्ड मेरी कॉलेज,चाणक्यपुरी(इग्नू)से समाजशास्त्र में एम.ए(2015)। प्रयास: Remember Complete Dictionary का सह-अनुवादन,Splendid World Infermatica Study का सह-सम्पादन, स्थानीय पत्रिका"कोशिश" का संपादन एवं प्रकाशन, "मित्र-मधुर"पत्रिका में कविताओं का चुनाव। सम्प्रति: सामाजिक मुद्दों पर स्वतंत्र विचार एवं ज्वलन्त विषयों पर पैनी नज़र। सोशल मीडिया पर साहित्यिक धरोहर को जीवित रखने की अनवरत कोशिश।पंजाब केसरी ई अखबार ,वेब दुनिया ई अखबार, नवभारत टाइम्स ब्लॉग्स, दैनिक भास्कर ब्लॉग्स,दैनिक जागरण ब्लॉग्स, जय विजय पत्रिका, हिंदुस्तान पटनानामा,सरिता पत्रिका,अमर उजाला काव्य डेस्क समेत 30 से अधिक पत्रिकाओं व अखबारों में मेरी रचनाओं का निरंतर प्रकाशन। भोपाल स्थित आरुषि फॉउंडेशन के द्वारा अखिल भारतीय काव्य लेखन में गुलज़ार द्वारा चयनित प्रथम 20 में स्थान। कार्यालय की वार्षिक हिंदी पत्रिका में रचनाएँ प्रकाशित। ई-मेल:salilmumtaz@gmail.com read more

  Literary Colonel

Why I Feel Sometimes That

Romance

Why I feel sometimes that I am the bangles Revolving on your slim wrist, With each tinkle o...

1    38 1

I Crave For Your Longings

Romance

The poem is a request to lover to not distance as it is the only reason for the heart to beat.

1    6 1

Bastard Child Of Partition

Horror

I belong to no nation Nor to any religion Not even to any category of humanity- Only becaus...

1    29 2

O Rapist!

Drama Tragedy

Maybe Keats was wrong to assume that “Beauty lies in the eyes of beholders” He mustn’t have...

1    26 1

Why I Sometimes Feel That?

Abstract Romance Fantasy

The poem is a wish to be an ornament for a woman.

1    8 1

For Once - For Ever

Abstract Romance

My breathe met yours, For once, But it became warmer, Forever. I went over your br...

1    27 2

प्रतिनिधि कविताएँ

Abstract

मजलूमों के वास्ते जहरीले आसूँ रईसों की मुस्कान हुई जाती है।

3    36 1

Post Truth Phenomenon

Abstract

The decisions are Marred by Suspicion of achievement Irrelevance of consequences

1    30 3

Technology Art And Love

Others

My love, May be encrypted, In billions of bytes..

1    29 1

Pain Of Puberty

Drama Others

Your serpentine fangs Will rise the next very day.

1    11.6K 4

My Identity

Others

Why should I be ashamed of who I am?

1    7.1K 9

My Sex And Sexuality

Drama Others Tragedy

Is there anything More pious and sacrosanct Than my sex and sexuality

1    6.3K 5

The Pity Of Numb 'Democracy'

Others

The incessant juggernaut has bequeathed on us the pity of numb 'democracy'.

1    6.5K 3

A Mediocre Democracy

Others

I am strangulated By the awe and travesty That makes My Democracy A mediocre

1    6.9K 6

Love Was Never Made For Me.

Romance Tragedy

She could never understand, what I said. She could never feel me, how much efforts I made.

1    7.2K 10

सच को झूठ से और कितना बदलोगे

Classics

चाँद को चुराके रात को दोष देते हो इंतज़ार करो, आसमाँ भी पिघलेगा।

1    110 9

मिरी अच्छाई ही मुसीबत है मेरी

Others

दुश्मनों को साथ लिए फिरते हैं आले दर्जे की मोहब्बत है मेरी

1    201 1

दोस्त

Others

इंसान सब बँट गए हिन्दू और मुस्लिम में सियासत मजहबी तराने गुनगुनाता रहा

1    273 1

बहुत अच्छा है कि ख़ूबियाँ साथ

Inspirational

कामयाबी की तफ़्तीश पूरी नहीं हो सकती हो सके तो नाकामियाँ भी साथ ले के चलो

1    24 1

सब हादसे दिन में मुक़म्मल होते

Inspirational

दिन में नहीं दिखता गर इज़्ज़त का व्यापार कोई रात किसी झोपड़ी में भी गुजारा करो

1    24 2

अगर तेरा नूरानी हुस्न चुरा सकता

Romance

जहाँ ठहर जाती पल भर को भी तुम, जहाँ को खूबसूरत ज़माना दिखा सकता मैं

1    23 1

नीति

Drama

महाभारत के सबसे कमजोर पात्र पर ही हावी क्यों ?

1    164 0

औकात

Tragedy

किसान मर न जाए तो करे क्या ब्याज जमा है पहली बरसात से

1    292 2

चाँद हुश्न

Romance

वो खुद में एक किताब रखते हैं।

1    43 1

ज़ख्म

Others

दिन गुजरता नहीं, शाम ढलती ही नहीं

1    246 2

कागज़ी बदन

Abstract

भरोसा तोड़ना कोई कानूनन जुर्म नहीं इंसानियत कहती है ये संगीन है बहुत

1    6 1

कोई तो

Drama

अभी शादी करने से पहले, कुछ देर और मैं जीना चाहती हूँ।

1    186 1

यह बहस बहुत पुरानी है

Abstract

जग मस्तक झुकाएगा, जब नारी बन जाती झाँसी की रानी है।

1    282 1

आज फिर एक बुद्धा की तलाश है

Abstract

जो पौरुष मृत्यु को भी जीत लाता था, आज वही वीभत्स घटनाओं का क्यों आधार है ?

1    297 1

मुक्त करो भगवन को आज !

Drama

न दबाओ घंटियों में उसकी हुँकार, कभी तो सुनो बेजान मूर्तियों की पुकार।

1    26 1

मज़हबी रंग

Tragedy

वो चमक रहा है फलक पे रौशनी की तरह मैं उसे कमीज़ में बटन की तरह टाँकना चाहता हूँ

1    9 1

अजीबियत

Others

खिलौने भूलकर मोबाइल खरीद लाते हो, बचपन को ठग रहे हो, कुछ तो शरमाया करो।

1    155 1

बेटियाँ

Classics

बेटियाँ हैं तो ही सब है ये क्यों नहीं चाहते हो।

1    263 2

नींदों के व्यापारी

Others

एक लट जो सदा गिरती रहती है सुर्ख चेहरे पे, उसे थपकियाँ देकर कानों के पीछे कर लेना।

1    6 1

पौधा

Abstract

हरा -भरा जो आज यहां पर, कल ठूंठ छूंछ हो जाएगा।

1    61 2

खोखले रिश्ते

Tragedy

इस अफवाह में गाँव मेरा वीरान हो गया।

1    6 1

मृगतृष्णा

Inspirational

जहां हो वही हो और खुश हो तो शिखर वहीं है।

1    187 3

चुनाव

Tragedy

तुम्हारी जरूरत बस चुनावों तक ही "सीमित" है।

2    172 1

याद आता है

Drama

उसके प्रांगण में दौड़ता मेरा वर्तमान थम जाता है, तब मेरा गाँव मुझे याद आता है।

2    29 1

उत्सव मृत्यु का

Inspirational

कृष्णा सा श्यामला, राधा सा शस्य यही। तो क्यों न मीरा सा इसका भी विषपान किया जाए।

1    69 1

तुम्हारा भी कोई मरा होता

Others

मौत का मातम ही मानना होता तो संसद में सिर्फ हंगामा ही नहीं करते पर मैं अब ये चाहता हूँ कि भ...

1    105 1

बेबसी

Others

मरते किसानों से पूछो ये देश कितना महान है सफेद झूठ का भी त्योहार देखो सरकार का विकास मे...

1    125 2

दंगा

Tragedy

बूढ़े, बच्चे, औरतें सब रौंदी जाएँगी हैवानियत के मज़हर होने तक

1    29 1

फरिश्ता

Abstract

मेरी, तुम्हारी यादों में उम्र कट गई होगी।

1    86 2

रोटी

Abstract

देर सवेर रोटी का तूफ़ान मचाया जाता है।

1    95 2

उसकी आँखों में

Romance

जब भी आईना देखते होंगे, वो सोचते होंगे इन आँखों में न जाने कौन पागल रहता है

1    207 30

ये न पूछ कि वो मेरा क्या लगता

Romance

ये न पूछ कि वो मेरा क्या लगता है कभी खुदा, कभी सनम लगता है।

1    47 1

जीत लूँगा

Abstract

समता की एक नई फसल लहलहाऊँगा।

1    36 1

भूख लगे तो रोटी की जात नहीं कर

Inspirational

क्यों बना है बेकसी का ये आलम कौम में सरकार से ऐसे सवालात नहीं पूछा करते

1    76 1

दर्द उजला या काला नहीं होता

Classics

दर्द सहेजना तुम अगर सीख जाओगे तो रिश्ते सहेजना भी सीख जाओगे।

1    51 1

बादशाहत

Drama

अब हमें तुम्हारे घर में तुम्हें ही हराना आता है।

1    192 34

वक़्त

Inspirational

फूल की तरह खिलने का माद्दा है मुझमें बेकार ही तूफान में पत्तियों सा बिखर जाएँ क्या

1    50 1

क्या होता है माँ का होना

Abstract

एक बार माँ पुकार के देखना यही होता है माँ का होना।

1    71 1

अभ्यारण्य का हाथी

Children Stories Tragedy

अपने नन्हें बच्चों की लाशें सड़ते देखता हूँ, अश्वतथामा की याद में द्रोण सा चिल्ला उठता हूँ।

1    48 2

बचपन

Children Stories

हरे घास थे जहाँ वहाँ बस काई उग आई थी।

1    53 1

हँसी का गणित

Drama

सो अब सोचो हँसना क्या इतना आसान है ? कतिपय नहीं।

1    35 1

कैसा विकास

Abstract

जिस कुएँ का पानी अमृत से मीठा होता था, उसको ढककर मिनिरल वाटर प्लान्ट लगाया जा रहा है।

1    9 1

इतिहास के उतरार्द्ध में

Inspirational

कैसा होगा समीकरण क्या होगा मापदण्ड, क्यों होगी सुगबुगाहट कब होगी कसमसाहट...

1    108 2

रोती रही प्रकृति

Tragedy

हवाओं की ज़ुबाँ तक को धुआँ के नस्तर से सी गए हो।

1    49 1

दर्द का व्याकरण

Drama

दर्द सहेजना तुम अगर सीख जाओगे तो रिश्ते सहेजना भी सीख जाओगे।

1    222 38

गलियाँ बचपन की

Children Stories

हरे घास थे जहाँ वहाँ बस काई उग आई है।

1    223 10

जीत लूँगा आसमाँ

Abstract

और फिर समता की एक नई फसल लहलहाऊँगा।

1    69 2

फ़लसफ़ा उम्र का

Drama

एक झोंके की तरह बस छू के चली जाती है।

1    49 1

आँखें

Romance

मैं तुम्हारी तालिमें पलकों पे रख लूँगी।

1    75 1

छल

Others

यूँ तो खूब सुनाइए अपने दिल की बातें, जब कोई करे सवाल तो अनमने रहिए...

1    74 2

दंगा

Tragedy

कटा धर,फूटा माथा,टूटा इंसान खूँ बहा जमीं के नहर होने तक

1    15 1

कूबत

Others

जिन्हें आदत हैं औरों के रहमो-करम पे जीने के वो कूबत होते हुए भी अपना डर नहीं बना पाते

1    14 1

आप और मैं

Others

आँखों से एक झलक भी न ओझल हो जाए मेरी दहलीज को सितारों से टाँकते रहे

1    257 5

प्यासा गाँव

Others

रिश्तों की बाट नहीं जोहते कोई भी चौक-चौबारे आप भी झोला भरके बदगुमानी खरीदते जाइए

1    275 34

बेपरवाह हुश्न

Drama

जो देख लें तो मुर्दे भी जी उठे कसम से अपने तबस्सुम में इक संसार लिए चलते हैं।

1    340 45

जरूरी तो नहीं

Others

रिश्ते सब निभ ही जाएँ, जरूरी तो नहीं बगीचे में सिर्फ गुलाब हो,जरूरी तो नहीं

1    10 1

सुना है कि आप लड़ते बहुत हैं

Drama

कोई जो पूछ ले समृद्ध इतिहास आपका फिर अपनी हर बात से मुकरते बहुत हैं।

1    75 1

माना वक़्त बुरा है तो मर जाएँ

Others

मैंने जीने का वायदा किया है किसी से मौत को देख वायदे से मुकर जाएँ क्या

1    112 4

तुम्हारी महफ़िल में और भी इंतज़ा

Drama

शायद इसीलिए शायर और शायरी बदनाम है।

1    178 36

कुछ इस तरह अपने कलम की जादूगरी

Fantasy

किस्सों में जो अब तक तुम सुनते आए सदियों से मेरा मुँह चूमता हुआ तुम्हें वही पुरनम परी दिखाएँगे

1    27 1

मेरी बातों पे गौर कीजिए जरा

Drama

खुशी का मतलब पता तब चले गमों के आँसू जब पीजिए जरा।

1    67 3

मुझे मेरी मौत का फरिश्ता चाहिए

Drama

मेरा इश्क़ सबसे निभ नहीं पाएगा सो हमनबा भी कोई सस्ता चाहिए।

1    33 2

निगाहें मिलाते रहिए

Romance

है कोई बीमार आपको, फिक्र नहीं आप बेरुखी से खिलखिलाते रहिए।

1    221 41

अगली पीढ़ी का बोझ कौन उठाएगा

Tragedy

मोबाइलों से चिपटी लाशें ही बस घूम रहीं ऐसे दौर में अगली पीढ़ी का बोझ कौन उठाएगा।

1    443 27

मुझ सा दीवाना याद आता है

Romance

जिस तरह मैं हो गया हूँ तेरे हुस्न का कायल क्या तुझे भी मुझ सा दीवाना याद आता है।

1    237 11

तू मिलना अब मुझसे तो

Romance

न हो कोई बंदिश, न कोई शिकन दुनिया की बाँहें मरोड़ के मिलना।

1    60 1

बच्चों को गिरने पड़ने भी दीजिए

Children Inspirational

हर बच्चे में कोई खुदा है फिर उसे बच्चा ही रहने भी दीजिए।

1    93 5

रिश्ते निभाने में

Drama

खुद ही कहिए और खुद ही सुना कीजिए इस तरह अपना हौसला जुटाते रहिए।

1    310 35

ज़ुबानें हो गईं गाली-गाली

Tragedy

बातें हो गई बन्द कभी की ज़ुबानें हो गईं गाली-गाली।

1    78 3

दो ग़ज़ ज़मीन है बहुत

Drama

वो बरगद बूढ़ा था, किसी के काम का नहीं पर उसके गिरने से गाँव ग़मगीन है बहुत।

1    188 9

इन लहजों ने कुछ तो छिपा रखा

Drama

इन लहजों ने कुछ तो छिपा रखा है कहीं आँधी कहीं तूफाँ उठा रखा है।

1    95 4

यकीनन माली का बहा हुआ खूँ होगा

Inspirational

अभी भी वक़्त है बदल दो ये सारे मंजर वरना खौफ़ के साए में वतन हरसूं होगा

1    98 5

मैं विद्यार्थी हूँ

Inspirational

जिन्हें घबराहट है अप्रत्याशित हिंसा से जो उनके आगे सुरसा की तरह मुँह बाए हैं

1    747 4

काजल करने के लिए

Drama

हलाल कर के बन्द ज़ुबानों को जो मिले, कातिलों की पसन्द वाला ही सुकून चाहिए !

1    1.1K 6

मंदिरों में आरती, मस्जिदों में

Romance

वो आँखों में होता है जो निगाहों में होता नहीं जो हो इश्क़ में उसे फिर कोई होश होता नहीं

1    1.3K 12

मुझको तेरा अंदाज़

Drama

जिसकी दुहाई देते हो उसी को नोचते हो, मुझे तुम्हारा दोगला समाज समझ में आता है

1    5.7K 7

तू मेरा कल नही, तू मेरा आज नही

Tragedy

तुम तड़पोगी,तुम तरसोगी हमारे लिए मेरी जुदाई में आह होगी,आवाज़ नहीं

1    1.5K 7

प्यादे को भी बादशाह की औकात दी

Inspirational

शतरंज की बिसात पर हो तो तैयार रहना कि प्यादे को भी बादशाह की औकात दिखाना आता है

1    7.1K 8

गर हो आज तुम्हारी इजाजत

Fantasy Romance

तुम बन जाओ बस मेरी आखिरी मंज़िल मैं थक गया सफर से, अब रुकना चाहता हूँ।

1    7.2K 9

मुझको अफवाहों से डराता है क्या

Drama Tragedy

करनी थी इस जीनत की हिफाज़त तुझे, तूने ही फ़िज़ा लुटा दी तो बताता है क्या।

1    6.6K 4

इश्क़ भी कभी औरों के भरोसे

Drama

कस्तूरी सी ये फ़िज़ाएँ महकने लगी है अचानक देखना तो ये हवाएँ छूके तुम्हें भी गई हैं क्या।

1    1.2K 4

वो जब से लौट आए मेरे शहर में

Fantasy Romance

शायद रब को भी था तुम्हारे आने का इंतज़ार, तभी मंदिरों में आरती और मस्जिद में कव्वाली हो गई है।

1    6.9K 12

मुझे मत दिखा ये चाँद सितारे

Drama Thriller

मैं बेचारा बिछड़ा हुआ गाँव हूँ, पर उजड़ा नहीं हूँ...!

1    1.5K 7

इस रस्म की शुरुआत बस मेरे बाद

Romance

ये कि क्या हुज़्ज़त है आपके नूर-ए-नज़र होने की दिल की बस्तियाँ लुट जाएँ,और फिर हमें याद कीजिए

1    1.3K 4

एक सलाम हमारे सैनिकों के नाम

Action Inspirational

तो फिर क्यों न करें हम एक सलाम हमारे सैनिकों के नाम।

1    6.7K 9