@opsmqcmh

Baman Chandra Dixit
Literary Colonel
AUTHOR OF THE YEAR 2019 - NOMINEE

189
Posts
222
Followers
2
Following

Love writing poems and short stories in HINDI & ODIA

Share with friends
Earned badges
See all

Submitted on 31 Dec, 2019 at 06:16 AM

ତୋର ଥଣ୍ଡା ପାପୁଲିର ଗରମ ଛୁଆଁ ଅଙ୍ଗେ ଅଙ୍ଗେ ଜାଳେ ଅନଙ୍ଗ ନିଆଁ ପାଖରେ ବସି ତୁ ପାଖକୁ ଆସୁନୁ ଏତେ ଅଭିମାନ କରୁଛୁ କିଆଁ

Submitted on 18 Jul, 2019 at 13:25 PM

बेहयों के भड़ है यहां हया हालाल हर जगह आँसू पोछते हाथ भी आबरू हड़प लेते।।

Submitted on 18 Jul, 2019 at 13:13 PM

तेरी पलकों से अलग हुआ वो बून्द हूँ मैं तेरे चेहरे पे आज भी निशान होगा मुस्कुराने बे बाहाने कुछ भी ढूंढ़ लो तुम हर एक हँसी में तेरी दर्द दफन होगा। ना रोना बिलख कर वे जान जाएंगे, उंगलियां उठेंगे प्यार बदनाम होगा।।

Submitted on 18 Jul, 2019 at 12:57 PM

बारिष मे भींगने को जी करता है किच्चड़ मे खेलने को जी करता है पुरि जिंदिगी तो गुजार ली सहर मे गाँव मे मरने को जी करता है।।

Submitted on 18 Jul, 2019 at 12:48 PM

अंधेरे में चलते चलते आँखें आदी हो जाते अक्सर उजाले में लोग रास्ता भटक जाते हैं।।

Submitted on 18 Jul, 2019 at 12:44 PM

तमन्नाओं को जब कभी मैं अफ़सोस करते देखता शक्की निगाह मेरी मुझ ही को घूरता। नज़र चुराना इतना आसान होता नहीँ खुद ही खुद को कैसे झूट बोल पाता।।

Submitted on 18 Jul, 2019 at 12:32 PM

शाख से टूटने के बाद उस पत्ते की तरह ईश्क से अश्क तक सफ़र आख़री की तरह समा जाना ही चाहता उस मिट्टी की कण में बुझी दिया में शोई आख़री राख़ की तरह।।

Submitted on 18 Jul, 2019 at 12:23 PM

शाख से टूटने के बाद उस पत्ते की तरह ईश्क से अश्क तक सफ़र आख़री की तरह समा जाना ही चाहता उस मिट्टी की कण में बुझी दिया में शोई आख़री राख़ की तरह।।


Feed

Library

Write

Notification
Profile