Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Chandni Sethi Kochar

नाम : चाँदनी सेठी कोचर जन्म तिथि : 12-12-1989 पिता का नाम : (स्व.) रमेश सेठी माता का नाम : श्रीमती वीना सेठी पति का नाम : डॉ. शुभंकु कोचर शिक्षा : बी.एड , एम.ए ( हिंदी साहित्य ) , बी.ए. साहित्य रुचि : महिला साहित्य और दलित साहित्य विधा : कहानी , लघु कथा , कविता, लेख. मोबाइल : 9818356504 ईमेल : chandnikochar@gmail.com प्रकाशित रचनाओं का विवरण - वर्तमान लेखन: दैनिक व साप्ताहिक अखबारों, पत्रिकाओं में कहानी, कविता, लघु कथा सामाजिक लेख. दैनिक विजय दर्पण टाइम्स, स्वैच्छिक दुनिया, जागरूक जनता, चलते फिरते, अमृत इंडिया, दैनिक राष्ट्रीय नवाचार, अमर उजाला आदि ! मेरा जन्म 12.12.1989 को दिल्ली में हुआ , मेरे पिता जी का नाम श्री रमेश सेठी , और माँ का नाम वीना सेठी है , मेरे से छोटा मेरा एक भाई और मुझे से बड़ी मेरी एक बहन है ! मैं एक पंजाबी परिवार से हूँ , लेक़िन मेरे पापा गुरूद्वारे को और माँ मंदिर को मानते थे , इसलिए बचपन से ही मैं गुरूद्वारे जा कर गुरुबानी भी पढ़ती थी , और मंदिर जाकर आरती भी करती थी ! बचपन से लेकर आज तक यहीं एक आदत है , जो मेरे साथ अभी भी है , आज भी मैं गुरूद्वारे और मंदिर दोनों जग़ह जाती हूँ , क्योकि यहीं मुझे ताक़त देता है ! मैनें कभी नही सोचा था, कि मैं एक हिंदी लेखिका बनूँगी। क्योकि मैनें औरों की तरह बचपन से लिखना शुरु नही किया, और ना ही मुझे बचपन से लिखने का कोई शौक था। मेरी जिन्दगी तो बहुत व्यस्त रही थी , क्योकी मेरे पिता जी भगवान जी के पास जल्दी चले गए, और अभी तक मेरी पढ़ाई भी पूरी नही हुई थी, पिता जी के जाने के बाद मेरे छोटे भाई को भी पढ़ना मेरी जिमेदारी थी। इसलिये शादी के पहले का समय मेरा तो यूही निकल गया, लेकिंन एक बात थी, मुझे पढ़ने का खूब शौक था। इसलिये शादी के बाद भी मैने अपनी पढ़ाई को विराम नही लगाया, बल्कि शादी के बाद ही अच्छी तरह से और मन लगा कर पढ़ने का मौका मिला, जिसका लाभ मैनें बहुत ही अच्छे से लिये। मैने शादी से पहले सिर्फ़ बी.ए किया था । मेरे पति डॉक्टर शुभंकु कोचर , जो गुरु गोबिन्द सिंह इन्द्रप्रस्थ विश्वविद्यालय में अंग्रेजी के प्रोफ़ेसर है , जिन्होंने मेरी पढ़ाई में मेरा पूरा साथ दिया , अगर आज वह मेरा साथ नहीं देते तो , मैं शायद कुछ भी नहीं होती ! जितनी मेहनत मैंने अपने जीवन में की है , उस से अधिक उन्होंने भी की है ! आज मैं जहाँ हूँ , सिर्फ़ उनकी मेहनत का फ़ल है , वरना आज मैं यहाँ नहीं होती ! आज मैनें एमए, बीएड, एम फिल भी कर लिया है। और अब पीएचडी के लिए एग्जाम दे रहीं हूँ ! अगर बात कहुँ अपने लेखन जीवन की तो, मुझे लिखते हुए अधिक समय नही हुआ है, मेरा लेखन कार्य सिर्फ अभी कुल मिलाकर 3 साल का ही है। लेकिंन ईश्वर का मुझ पर आर्शीवाद है, कि लोग इतने कम समय में मुझे जानने लगे। इस के लिए मैं जितना ईश्वर का शुक्रिया करुँ वो बहुत ही कम है ! अब तक कुल मिलकर मुझे छोटे बड़े 25 अवार्ड मिल चुके है। और काफी संस्थाओं के साथ मैं जुड़ी हुई हूं। जैसे कि 'साहित्य संगम संस्थान' , और 'आगमन '। मैने 'साहित्य संगम संस्थान' की पत्रिका 'अविचल प्रभा' जो हर माह आती है, उसमे मैं संपादक भी हूँ । साथ ही साथ मेरी अपनी खुद की भी एक संस्थान है जिसका नाम 'साहित्या अर्पण - एक पहल ' है ! जिसमे मेरे साथ मेरे कुछ मित्र भी हैं। हम 5 लोग मिलकर यह संस्थान चलते हैं, यह संस्थान नये कवियो को मंच देती हैं, ताकि हर कोई यह पर आकर बिना किसी संकोच के अपनी विधा मे अपनी प्रस्तुति दे, चाहे वह किसी भी विधा में लिखते हो। यह मंच सब का स्वागत करता है। बाकि आने वाले समय मे साहित्या अर्पण की पत्रिका भी जल्दी आप सब के बीच में होगी। PUBLICATION INFORMATION: 1. Book Details: S.No Title Type Book Name ISBN NO. Publishers 1 “बेटी” लघुकथा साझा संग्रह दीप देहरी 978-81-934061-6-8 Udeept Prakashan 2 “अनोखा रिश्ता” लघुकथा साझा संग्रह दीप देहरी 978-81-934061-6-8 Udeept Prakashan 3 “कामवाली” काव्य साझा संग्रह साहित्य उदय 978-81-934189-0-1 Udeept Prakashan 4 “खुशनसीब” काव्य साझा संग्रह साहित्य उदय 978-81-934189-0-1 Udeept Prakashan 5 “हार से मुकाबला” काव्य साझा संग्रह साहित्य उदय 978-81-934189-0-1 Udeept Prakashan 6 “अधूरा इश्क़” कहानी साझा संग्रह “दस्तक” 978-93-5300990-8 रवीना प्रकाशन 7 अनकहा दर्द काव्य साझा संग्रह भाव कलश 978-81-9381039-2 सन्मति पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीब्यूटर्स 8 एक सवाल काव्य साझा संग्रह भाव कलश 978-81-9381039-2 सन्मति पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीब्यूटर्स 9 आज की नारी काव्य साझा संग्रह भाव कलश 978-81-9381039-2 सन्मति पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीब्यूटर्स 10 माँ की याद काव्य साझा संग्रह भाव कलश 978-81-9381039-2 सन्मति पब्लिशर्स एंड डिस्ट्रीब्यूटर्स 2 लघु कथाएं :- (Short Stories) • अजब – गजब • अनोखा रिश्ता • अमूल्य वस्तु • कन्यादान • जैसी करो और वैसी भरो • बेटी • मन की बात • रेणु 3 . काव्य : - (Poetry) • काम वाली • खुशनसीब • हार से मुकाबला • मोहब्बत का दर्द • एक जवाब • पुराने जख़्म • भेद - भाव • मीठी यादें • मातृ प्रेम का अहसास • रिश्ता • सोचना जरूर • सम्मान • आज की नारी • पिता • मजदूर पिता • मेरी कलम • अनकहा दर्द • एक सवाल • नारी का त्याग • माँ • एक वेश्या • दर्द ए इश्क़ • प्यारा काकू • पर्यावरण की देन • योग के लाभ • पिता प्रेम • एक किन्नर • पहली बारिश • रक्षा का वादा 4. कहानियाँ: (Stories) • यादगार सफर • अधूरा इश्क़ • अनहोनी • विश्वास • अनोखी यात्रा • “खामोश प्रेम” • आधुनिक दहेज़ • रोटी • अस्तित्व • संघर्ष और विजय • मुखौटा • कागज़, कलम और फ़ोन 5 पत्रिका :- (Magazine) पत्रिका का नाम विधा रचना का नाम काव्य स्पंदन चित्र गुप्त प्रकाशन कविता आज की नारी काव्य स्पंदन चित्र गुप्त प्रकाशन कविता पिता काव्य स्पंदन चित्र गुप्त प्रकाशन कविता मातृ प्रेम का अहसास काव्य स्पंदन चित्र गुप्त प्रकाशन कविता मजदूर पिता काव्य स्पंदन चित्र गुप्त प्रकाशन कविता मेरी कलम प्रणाम पर्यटन पत्रिका कविता एक सवाल जय विजय पत्रिका कहानी “बेटी जय विजय पत्रिका कविता मेरी कलम प्रणाम पर्यटन पत्रिका कविता एक वेश्या जय विजय पत्रिका कहानी संघर्ष और विजय अविचल प्रवाह लघुकथा रेणु अविचल प्रभा कविता मज़दूर पिता डिप्रेस्ड एक्सप्रेस मैगज़ीन कहानी आधुनिक दहेज़ नारी शक्ति सागर कविता पिता सम्मान- (Award) उदीप्त प्रकाशन द्वारा लघु कथा के लिए श्रेष्ठ युवा रचनाकार सम्मान ! उदीप्त प्रकाशन द्वारा काव्य के लिए श्रेष्ठ युवा रचनाकार सम्मान ! साहित्य संगम संस्थान द्वारा बोली संवर्धन कार्यक्रम में प्राप्त सम्मान पत्र मई – 2018. साहित्य संगम संस्थान द्वारा बोली संवर्धन कार्यक्रम में प्राप्त सम्मान पत्र जून – 2018. साहित्य संगम संस्थान द्वारा आयोजित ऑनलाइन कवि सम्मेलन में भाग लेकर पर्यावरण के संरक्षण एवम् सम्वर्धन में शानदार प्रस्तुति के लिए सम्मान पत्र 2018. साहित्य संगम संस्थान द्वारा बोली संवर्धन कार्यक्रम में प्राप्त सम्मान पत्र जुलाई – 2018. साहित्य संगम संस्थान द्वारा बोली संवर्धन कार्यक्रम में प्राप्त सम्मान पत्र जुलाई – 2018. साहित्य संगम द्वारा बोली संवर्धन कार्यक्रम में प्राप्त सम्मान पत्र अगस्त – 2018 आगमन फाउंडेशन द्वारा लाइफ टाइम मेम्बर अवार्ड – 2018 साहित्य संगम संस्थान द्वारा व्याकरण शाला दैनिक कार्य में प्राप्त सम्मान पत्र 9 जुलाई – 2018. साहित्य संगम संस्थान द्वारा व्याकरण शाला दैनिक कार्य में प्राप्त सम्मान पत्र 12 जुलाई – 2018. आगमन फाउंडेशन द्वारा “भाव कलश” में रचनाकार सहयोग के लिए "सर्वश्रेष्ठ रचनाकार का सम्मान " महान कवि "डॉ. डॉ कुंवर बेचैन "के हाथों से प्राप्त - अगस्त – 2018. साहित्य संगम संस्थान द्वारा जनचेतना सम्मान पत्र प्राप्त अगस्त – 2018 उन्नंती शिक्षा संस्थान हिसार द्वारा आयोजित कार्यक्रम अग्गाज बेटियों का में "राज्य सभा सांसद दिल्ली सुशील कुमार गुप्ता" द्वारा "गैस्ट ऑफ ऑनर अवॉर्ड" का सम्मान मिला 30-अगस्त – 2018. आगमन फाउंडेशन द्वारा “ऑनलाइन प्रतियोगिता" में भागा लेकर दूसरे स्थान पर मेरी कहानी " कागज़, कलम और फ़ोन" के लिए सम्मान पत्र मिला ! आगमन फाउंडेशन द्वारा “ऑनलाइन प्रतियोगिता" में भागा लेकर दूसरे स्थान पर मेरी कहानी “उत्सव” के लिए सम्मान पत्र मिला ! उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में "काव्य रंगोली पत्रिका द्वारा साहित्य भूषण सम्मान 2018 से सम्मानित किया गया ! "आमंत्रण" मस्तानी दिल्ली के कार्यक्रम में "गैस्ट ऑफ ऑनर अवॉर्ड" से सम्मानित किया गया ! तमन्ना उड़ान के द्वारा आयोजित कार्यक्रम "तमन्ना उड़ान की " 101 महिलाओं की सूचि में मुझे भी सम्मानित किया गया ! संपादन पत्रिका : अविचल प्रभा अंक -13 , माह – सितम्बर. अविचल प्रभा अंक - 14 , माह – अक्टूबर . अविचल प्रभा अंक - 15 , माह – नवंबर. GUEST OF HONOUR Visited as a Judge in Lady Irwin College (Delhi ) for poetry competition on 28 August 2018. Visited as a Judge in Unnati Educational Society (Hissar) on 30 August 2018. साहित्य अर्पण ( एक नई सोच ) अयोनाकर्ता का कार्य , नये कवियों को मंच देना ! दिसंबर में ही साहित्य अर्पण की पहली पत्रिका का भी आगमन हुआ है ! जग़ह - जगह कवि सम्मेलन का आयोजन करना, ताकि मंच पर सभी विधो में लिखने वालों को स्थान मिले ! CHANDNI SETHI KOCHAR +91-9818356504 Mail id : chandnikochar@gmail.com Facebook : chandni sethi kochar read more

  Literary Colonel

पहली बारिश

Others

वो बचपन की पहली बारिश याद है मुझे जब मुझे से माँ ने कहा की बाहर मत निकलना ,

1    266 0

निशानी

Romance Tragedy

चाहतों के बाज़ार में हम उनका इंतज़ार ही कर रहे थे ! वह आए और हमारा ही भाव लगा गए !

1    97 4

मेरी प्यारी लाडो

Drama

एक बेटी, जब ससुराल से आए, तब लगती पराई सी है ! सही कहती है, दुनिया शादी के बाद बेटी पराई है।

2    163 7

पहली बारिश

Drama

वो बचपन की पहली बारिश याद है हमें, जब मैंने उसे अपने हाथों पर महसूस किया था ! जब माँ ने मेरे साथ ब...

1    6.4K 6

पिता

Drama

एक अधूरा अहसास जिनको शब्दों में नहीं हमारे आँसुओं ने बयान किया है !

1    6.7K 2

पिता प्रेम

Drama

अपने अरमानों को अधूरा छोड़ कर, जो हमारे अरमान पूरे करें, वह है पिता !

1    13.7K 8

पर्यावरण की देन

Drama

जीवन में अगर कुछ भी नहीं हो हमारे पास, तब इस पर्यावरण ने हमें सब कुछ दिया !

1    6.4K 4

अनमोल योग

Drama

योग है, हमारे जीने का नया रास्ता, जो करें योग रहे स्वस्थ !

1    7.2K 7

कन्यादान

Drama

रीता अपने पति और ससुराल वालों के साथ कितनी ख़ुश थी, फ़िर अचानक क्या हुआ जो उसकी ख़ुशी न रही ? आइए पढ़ते ...

1    1.4K 5

सोचना जरूर

Drama Inspirational

सोचना ज़रूर !

1    7.0K 5

खुशनसीब

Inspirational

खुशनसीबी पर एक कविता...।

1    7.2K 3

कामवाली

Others

क्या कसूर है उसका बस गरीबी ही, वो भी तो इंसान है, जानवर तो नहीं, क्यों हम उससे गलत व्यवहार करते हैं

1    6.9K 7