Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Rajeev Thepra

  Literary Colonel

देखना अब वो दुनिया बदलेगी

Drama

बदलती दुनिया के परिदृश्य में बदलती हुई स्त्री की भूमिका को अबिव्यक्त करती यह रचना दुनिया बदलेगी !

2    7.5K 7

विराट

Inspirational

हवा नहीं बहती, प्रेम बहता है

2    13.1K 5

अज्ञात

Abstract

ब्रह्मांड की तरह चेतना को विश्राम कहाँ जब कभी मिलती है विश्रांति खुद के कहीं होने का आभास होता ह...

1    7.3K 6

मन

Inspirational

मन इक अभीप्सा मन इक लिप्सा

1    12.8K 7

इक उम्मीद

Inspirational

इक पल में कई पल इक दिन में कई दिन इक जन्म में कई जन्म जी रहा हूँ मै

1    7.1K 3

ज़ख़्म

Inspirational

ज़ख्मों को देखो ज़रा ज़ख़्म इक सीख भी है

1    7.0K 4

पाखंडी

Abstract

जीवन पल-पल रिसता जाता है जीवन हमसे बिसराता जाता है

1    6.9K 4

शहर निगोड़ा

Abstract

दुनिया को सुन्दर बनाए रखने की बातें हैं पांखड असल में हम सब पल-पल,दिन-दिन होते जाते खंड-खंड !!

1    1.4K 7

तेरा कोई जोड़ नहीं

Romance

मेरे आसपास ही रहा तेरे होने ही भर से तो मैं कितना निश्चिन्त रहा तेरा कोई जोड़ नहीं

1    1.2K 6

स्त्री

Abstract

जिनको ढूंढ़ने हमें गहराई में कतई नहीं जाना जब नहीं रहता कोई पुरुष,पुरुष तो नहीं रह पाती कभी कभी क...

1    124 5

घटनाएँ

Romance

ख़ुशी के बीच उदासी छोड़ कर जाने शाम क्यों बुझी रहती है

1    6.8K 5

सुनाने दो

Romance

जान-पहचान ज़रा-सी रख लो अगर यूँ न झिझको हाथ मिलाने दो !!

1    6.9K 2

तेरे हर्फ़

Romance Inspirational

कभी झुरमुट बन जाते हैं साँझ से तेरे हर्फ़

1    13.6K 4

हरेक पल

Tragedy

तेरे मतभेद बन गए मनभेद से और बनने लगे अपनी गृहस्थी में कई कई छेद से

1    6.9K 12

ख्याल

Inspirational Romance

कल्पनाओं में तुझे निहारूँ बहकता फिरूँ गली-गली

1    6.9K 6

आँख

Romance

आँख में हैं छिपे कई राज घनेरे कितने

1    6.9K 7

प्रेम

Inspirational

कितना भी अँधेरा ढूँढ़ ही लेता मन उजियारा

1    6.8K 11

वक्त

Fantasy

पानी सा वक्त बहे जाता है गौर से सुन लो तो सुन पाओगे

1    6.6K 6

ज़िन्दगी ज़िन्दगी ज़िन्दगी

Inspirational

कितने ही अरमानों से खुद हमारी प्यास है ज़िन्दगी

1    13.4K 7

चुप्पी

Drama

उसके आटा गूँथने, लोई बनाने और रोटी बेलने-सेंकने से उसकी सोच के प्रवाह में कोई अंतर नहीं पड़ता

1    6.6K 5

दिल

Abstract

जिन्दगी मुझमें समा मेरे पाँव से चलती है खुद का होना भी इक बोझ-सा लगता है फिर भी इक हल्का-सा ...

1    7.1K 6

न जाने क्या तो होता रहता है

Abstract

क्षितिज के तट पर जाकर हमको भूल जाता है क्षितिज को तकते-तकते हमको रोना आता है!!

1    6.7K 3

बहुत चकित हो जाता हूँ मैं

Inspirational

चकित होने के लिए दुनिया भर में बहुत सी चीजें हैं बस समय ही नहीं

1    6.6K 6