Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Arti Tiwari

  Literary Brigadier

और तुम

Classics Inspirational

धनंजय तुम रत्नों के ढेर पर बैठे देखा किये, मेरा तिरस्कार

2    13.3K 4

केशव से कुछ प्रश्न

Abstract Inspirational Drama

तुमने तोड़ा है मैया का हृदय यशोदा सी माँ सृष्टि को ही विस्मृत कर बैठी थी अपने लल्ला अपने कान्हा के...

1    14.0K 11

ज़िंदादिल लड़की

Inspirational

देह के सरोवर में प्रतिबिंबित अक़्स देखके ख़ुशी से दमकती

1    13.0K 4

कस्बे की लड़की

Inspirational Abstract

किसी को रंज़ न हो ऐसे जताती है/अपना विरोध समाज/व्यवस्था और बेकारी से कस्बे की लड़की

1    7.0K 7

कवितायेँ खामोश है

Inspirational

ज्वालामुखी घावों का बहने लगता है लावा

1    13.8K 8

अपरिमित बंधक

Abstract

उसी पिंजरे में/ जिसे नाम तो घर का मिला है पर .घुटता है दम/हरदम

1    6.7K 5

देह से परे स्त्री

Inspirational

स्त्री तो नदी है चुचाप बहती ही अच्छी लगती है।

1    13.5K 5

अस्मिता हूँ

Inspirational Abstract

कहाँ तलाश पाती हो/समाधान दृष्टि हीनता के अभाव में उलझी रही आती है पहेली

1    13.4K 3

प्रतीक्षा मत करो

Abstract

देखो कैसे झरता है हरसिंगार फूलता है मोगरा फिर-फिर हर बार

2    13.0K 8

स्त्री और ऊब

Abstract

इन सबके पहले बाद आगे पीछे कभी जो झलका उमड़ा बाहर आया वो था

1    6.8K 4

आषाढ़ के आखिरी दिन

Abstract

आषाढ़ मात्र नमी लिए था जल से रहित था उसका पात्र

1    13.4K 8

"नया साल"

Inspirational

एक दिन जरुर मेरी कामनायें पूरी होंगी

1    13.2K 3

ग्रीन वैली

Fantasy

कितने देवदार,चिनार,अमलतास बड़े हुए जिसके बचपन के साथ साथ जिसकी आँखों ने नहीं देखे कटते पेड़ रोक कर सड़ा...

1    13.3K 7

चुनी हुई चुप्पियाँ

Inspirational Tragedy

हताशा की रस्सी पर टाँग सलाहियत को दे देती हैं फाँसी

1    6.9K 8

वस्त्र

Fantasy Inspirational

हमारे वस्त्र तैयार करती है क़ुदरत एक अदृश्य सुई से

1    13.6K 3

पेड़ चलते हैं

Fantasy Inspirational

उनकी दोस्ती नदी नालों से भी थी वेबूँदों की प्रतीक्षा का अंतिम दिन नखलिस्तान सा लगे है उनकी दोस्ती नद...

1    6.7K 5

आषाढ़

Fantasy Inspirational Romance

बादलों के जवाबी ख़त नदारद थे

1    6.7K 1

आषाढ़ के आखिरी दिन

Romance

बूँदों की प्रतीक्षा का अंतिम दिन नखलिस्तान सा लगे है

1    6.7K 2

अलाव

Inspirational

किसी मसीहा के इंतज़ारमें बावले लोग बस एक भीड़ है

1    6.6K 6

"जिजीविषा"

Others

  कलियों के रंगों में चटकूँगी.........   

1    13.7K 3

"मैंने नहींं तोड़े गुलाब"

Others

      दोहरी हुई कमर अब अकेले अपने दर्द को जीती है बैंगनी आकाश है,घुमड़ते मेघ हैं पर कौन लौटाऐगा मेरा ...

1    17 0

"फिर आऐगा वसन्त"

Others

अँधेरे को चीर आऐगा वसन्त छा जायेगा हमारे दिलो-दिमाग पर वसन्त का मादक नशा आऐगा वसन्त अपनी पूरी की पूर...

1    13.3K 5

पुल के पार

Others

असहिष्णुता की धुंध में ओझल थे दोनों छोरों पर इकट्ठे लोगों के दुखी चेहरे शक और गलतफहमियों की आग में स...

1    7.3K 3

|| सुनो श्यामली ||

Others

एक छोटी सी चिंगारी की मानिंद और आज धधक रही हो जैसे जाड़े में कोई अलाव और मैं सुलग रहा हूँ |

1    6.9K 5

"बच्चा"

Others

संघर्षों से भरा यौवन मेरे अन्दर का बच्चा दुबका रहा अंदर ही |

1    13.3K 4

बच्चा

Others

संघर्षों से भरा यौवन मेरे अन्दर का बच्चा दुबका रहा अंदर ही |

1    6.8K 2

हमेशा की तरह आज की तरह

Others

मीठे पानी से जो मुग्ध कर गया कुछ यूँ कि कितनी ही उम्र कि कितनी ही जिंदगियाँ बीतती गईं हम बदलते रहे द...

1    6.7K 3

तुम्हारा प्रेम

Others

मैं नही बना पाती मक्के की रोटी और अफीम की भाजी तुम नही खा सकते दाल चावल रोज़

1    6.7K 1

"हारना दुःख का"

Others

अँधेरे कोने में मन के कुंडली मार के बैठा दुःख मुस्कुराता मुझे देख देख के

1    6.6K 7

चिड़िया की भाषा

Others

चिड़िया पढ़ लेती है पृथ्वी की हस्त-रेखाएं जान लेती है अवनि के अंतर्मन की गहराइयों को कभी उदास तरु की आ...

1    13.0K 3

बच्चे में रह सकते हैं

Others

माँ का आँचल समा जाते हैं जिसमें कई देश, कितनी ही नदियाँ उसी आँचल से छनकर आती हैं

1    14.0K 3

|| सौदा ||

Others

तुमने सौदा किया ममत्व के अतिरेक में झुलसा कर माँ से ममता का

1    13.8K 4

"प्रेम का प्रस्फुटन"

Others

प्रेम ऊगता रहा रिश्तों की बंज़र ज़मीन पर उम्मीदों की फसल सा लहलहाता रहा

1    6.8K 3

छाले

Others

माँ आँतों में छाले पाले जाने कैसे जीती रही बरसों हथेली में उगाती रही सरसों हम रहे आये अनभिज्ञ उसकी ख...

1    20.7K 8

हरियाली तीज

Others

ये वे ही शापित अहिल्यायें हैं जो सावन की फुहारों में भीग/पत्थर से नारियों में बदल जाती हैं।

2    16.0K 4

अज्ञात बलात्कारी के ख़िलाफ़ प्रकरण

Others

आज़ादी के तराने मुस्कुराती गुनगुनाती बेख़ौफ़ बेबाक लड़कियाँ.......   

1    13.5K 6

मैं ऋचा हूँ

Others

जिसे देवताओं ने नहीं लिखा एक धारदार कलम ने एक कोरे कागज़ पर

1    7.1K 6

स्त्री विमर्श

Others

तुमने कहा उसने राम को आक्षेपित किया सीता के लिए कृष्ण और अर्जुन को द्रौपदी के लिए सीता ने नही,द्रौपद...

1    13.5K 5

कभी यूँ ही

Others

      तुम्हारी नोटबुक में चकित विस्मित दरीचों की ओट से पढ़ता तुम्हारा लिखा      विस्फारित नेत्रों से ...

1    13.6K 3