Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Saurabh Kumar

  Literary Captain

मेरा निधन

Abstract

चाहा जब मैंने अपना घर बसाने को, चाहा जब अपना दुख मिटाने को, दबे रह गए मेरे अरमान जब, वो कहे अपने चमच...

1    1.3K 8