Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Vijay Vibhor

  Literary Captain

लोकतंत्र

Drama

हम आपकी सारी बातें सुनेंगे बस एक दिन ही राजनीति करेंगे।

1    45 0

अन्नदाता

Drama

बिना रुके खेत मे कस्सी चलाते-चलाते रमुआ ने जवाब दिया।

1    187 0

फिलॉस्फर

Abstract

अरे बच्चो, कोई बैंच खाली है क्या इसके लिए ?

1    342 0

कुल्हड़ में हुल्लड़

Drama

इस बीच उनकी बेटी कल्पना ने उनकी इस नोकझोंक पर एक व्यंग्यात्मक रचना लिखकर प्रतियोगिता के लिए पोस्ट भी...

2    344 0

शहतूत

Children Stories Inspirational

हाथ से आँख पोंछकर चश्मा साफ़ करने के लिए कुर्ते की जेब में रुमाल टटोला, रुमाल नहीं मिला तो आवाज़ लगायी...

2    95 1

पक्षपाती (लघुकथा)

Drama

बालिका चुपचाप काम में लग गयी। कटिया ने भी आँखे मूंद लीं और जुगाली करना जारी रखा। -

1    484 24

मन का भँवर

Drama

तुमसे बहस में जीतने का सपना ना कभी मैंने देखा था ना कभी देखूँगा।

1    366 38

बदलाव

Drama

अरे जब से ये प्रधान बने हैं, तब से ऊँचा सुनने लगे हैं।"

1    313 15

मंज़िल

Drama

एक दिन उस आदमी को जनता ने देश की सर्वोच्चय कुर्सी पर बैठा दिया।

1    326 14

मन डोला (लघुकथा)

Drama

लोभ, मोह, डर और अहँकार रूपी हाथों के आगे मुक्ति पाने की चाह लिए उसका मन डोल गया...

1    241 10

गूँगे स्वर

Inspirational Tragedy

आज वह बहुत चीख़ रही है, लेकिन उसकी यह चीख़ किसी को सुनाई नहीं पड़ रही

1    143 7

ज़रा संभल के

Comedy Drama

पट्ठे ने भयंकर दुर्घटना में अपनी बीवी की मौत की ख़बर के साथ पत्नी के जन्मदिन वाली फोटो पोस्ट कर रखी थ...

1    322 15

परोपकार

Drama

"किसी ग़रीब मज़दूर को दे दूँगी। पहन कर दुआ देगा।"

1    252 11

पोटली (लघुकथा)

Drama Inspirational Tragedy

अनपढ़ होते हुए भी जीवनभर हाड़तोड़ मेहनत कर उसने अपने बच्चों को क़ामयाबी के शिखर तक पहुँचा दिया था...

1    341 14

दिमाग़ के पिंजरे

Drama Tragedy

अपनी-अपनी मानसिकता के हिसाब से शब्दों का उत्पादन करने लगें।

1    382 15

टाइम कहाँ है

Drama

"पढ़ने का टाइम किसके पास है।" मोबाइल में घुसे-घुसे ही शर्मा जी बोले।

1    235 10

महत्त्व

Children Drama

"बेटा! मैं अपने जीवन से तुम्हारा महत्त्व ख़त्म नहीं करना चाहता।" स्नेहपूर्ण दृष्टि बेटे पर डालते ह...

1    248 11

बंधन

Drama

पति ने भी उसे बाँहों जकड़ लिया।

1    248 10

शक के बीज

Others

मैं देख रही हूँ, तभी से तुम्हारा परिवार लगातार उजड़ रहा है।"

1    240 11

छुपन-छुपाई

Tragedy

आँखों के कोरों ने अब तक संभाले आँसुओं को उन्मुक्त छोड़ दिया जो छुपन-छुपाई के इस खेल का दर्द ब्यान कर ...

1    366 15

चुभन

Drama

उसने कोई जवाब नहीं दिया लेकिन उसके बाद अपने घर कभी दोस्तों की महफ़िल नहीं बैठाई।

1    248 11

दोहराव

Drama

'पिताजी का कहा आज सच हो रहा था।' सोचते हुए उसने एक और कोशिश की....

1    265 12

नव निर्माण

Drama

चुनाव खत्म होने के कुछ दिन बाद मंगतूराम अपने पुराने मकान को तोड़कर उसके नवनिर्माण में जुट गया।

1    377 18

फ़ैसले

Drama Tragedy

जितने भी प्लान बनाए थे, सभी सामूहिक चर्चा में निर्णय का इंतज़ार कर रहे हैं।

1    290 13

प्रोफाइल पिक

Others

उसे बड़ा बुरा लगता सोशल मीडिया पर लिखने का ईनाम लाइक्स और कॉमेंट ही तो थे।

1    343 14

नया नशा

Drama

वह मेरी बातों को सुन तो रहा था परंतु नज़रें मोबाइल में गड़ाए हुए था।

1    367 12