Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Yogesh Suhagwati Goyal   Author of the Year 2018 - Nominee

I grew up watching my father pen down his thoughts and ideologies. While I was never a writer myself, after his passing, I reflected back on everything he taught me and realized that every small interaction we had was a distinct memory that I cherished. Each memory made way for a unique story which I knew I wanted to remember him by and that’s when I began putting pen to paper. The more I reminisced, the more I wrote and before I knew it, writing became my passion. That’s what I present to you today. I believe every life is full of stories and mine is no different. Every creation of mine you find here is a reflection of my life experiences and the lessons I’ve learned from them. Having lived, what I consider, a full-life, I believe it is my obligation to share my experiences with the future generation and not let them pass away in oblivion. I truly hope my stories will create a positive impact on your life in one way or another. Thank you for visiting my page and I hope these stories stir up some emotions for you as you read them, the same way they did for me when I wrote them. read more


इंसान झूठ क्यों बोलता है

Abstract

नासमझ झूठ परोस अलगाव लाते हैं और समझदार, झूठ बोल, खुशियाँ बाँटते हैं।



1    158 112

शेप में आना होगा

Others

मन का खाना नहीं, मन का पहनावा नहीं अपनी नज़रों में ही, खुद को गिरा रखा है



1    48 32

कोई कैसे संभले

Others

ऐसे अचानक आए गम से कोई कैसे संभले



1    50 34

तृप्ति के आँसू

Inspirational

ग्राहक तो बहुत पर इन्सान कभी-कभी आते हैं।



2    609 118

आज कलम उदास है

Drama

मेरी कलम जो हमेशा मेरे साथ थी पूछ रही है एक लेखक के आत्म सम्मान को झकझोर रही है।



1    459 101

लोकतन्त्र का उत्सव

Drama Others

लोकतन्त्र के उत्सव से, हमको भी जुड़ना पड़ा, जिम्मेदार के अधिकार का उपयोग करना पड़ा...!



1    2.4K 63

इसे प्यार कहते हैं

Inspirational Others

जब कोई किसी दोस्त को गले लगाकर कहता है ग़लती हो गयी यार, अब मुझे माफ़ भी कर दे



1    6.1K 422

ज़िन्दगी अभी बाकी है

Inspirational Others

पत्नी से कुछ बार ही कहा होगा, मैं तुमको बहुत चाहता हूँ अब जितनी बार भी मौका मिले, हर बार ये कहना बाकी है संकोच की अब कोई



2    5.8K 92

सामाजिक रिश्ते

Inspirational Others

रिश्तों में मधुरता बनी रहे इसके लिए आवश्यक है दोनों साथ मिलकर हँसे लेकिन एक दूसरे पर नहीं साथ में दुखी हो लेकिन एक दूसरे की



1    6.0K 54

ये दिवाली नहीं, दिवाला है

Drama

अव्यवस्था का हर ओर बोलबाला है, क्या दिवाली ऐसी होती है, ये तो दिवाला है।



1    1.7K 54

ठगा सा लगता है

Drama

यूं तो आजकल सारा काम मशीनों से हो रहा है आलसी इंसान उंगलियाँ चलाने से भी बच रहा है घर में पड़ा हर दिन महंगाई की तरह बढ़



1    1.6K 62

बूढों को ५ दिन का हफ्ता चाहिए

Drama

जवानी में सप्ताह अंत का, इंतज़ार रहता था, आजकल सप्ताह प्रारंभ का, इंतज़ार रहता है।



1    1.3K 54

लोग तरस रहे हैं

Inspirational

आज भी बहुत से घरों में रात का बचा खाना, सुबह कचरे के हवाले भूखे प्राणी खाने को तरस रहे हैं



1    7.0K 56

जिंदगी ढलने लगी है

Drama

पलक झपकते ही तथ्य ढूंढने वाली स्मरणशक्ति “योगी” मंद अब पड़ने लगी है,



1    6.9K 57

गोविन्द दर्शन

Drama Fantasy

“योगी” मैं बनिया सुनहरी अवसर कैसे चूक जाता, तुझको धन्यवाद देकर, मैं खुद खाली हाथ आता...!



1    1.2K 69

बरगद आजकल

Drama

“योगी” सही ही कहा है, जहाँ बरगदों की भरमार हो वहां पौधे तो क्या, झाड़ी और घास भी नहीं पनपते...!



1    7.2K 186

साथ बस थोड़ी देर का है

Drama

हमेशा सभी के प्रति आदर, दयालु और क्षमाशील बनो आखिर हमारा और आपका, साथ बस थोड़ी देर का है।



1    13.6K 187

माँ की साड़ी का पल्लू

Drama

मुझे नहीं लगता कि कभी कोई ऐसा आविष्कार हो पायेगा जो इतने उपयोगी, साड़ी के पल्लू से, आगे निकल जायेगा “योगी” चाहे जो कह लो,



2    1.5K 181

मुझे भीड़ नहीं बनना है

Inspirational

किसी चमत्कार का हिस्सा होना चाहता हूँ मैं, अविष्कार का हिस्सा बनना चाहता हूँ भीड़ संग बिना वजह यूं ही नहीं चलना है



1    6.8K 190

मेरी तो लाइफ ही ओवर हो गई

Inspirational Others

'ये ज़िन्दगी ख़ुशी और गम का किस्सा है, मुश्किलें आगे बढ़ने की प्रक्रिया का हिस्सा है।' जीवन सुख-दुःख का संगम है।



1    13.3K 195

मैं अपने आप से

Comedy Romance

'मैं खाने पीने का शौक़ीन, अदरक की तरह फैल गया, शरीर L से XXXL, और कमर का कमरा बन गया। कोमेडी कविता



1    14.0K 201

प्रगति में सबका साथ जरूरी है

Drama

प्रगति में हर देशवासी का योगदान स्वीकार करो



1    7.1K 186

कहीं देर ना हो जाये

Drama Inspirational

दूसरों के बनाये हुए नियमों से खुद को आजाद कीजिये कल वाले परिणामों के भय से, खुद को स्वतंत्र कीजिये



1    8.1K 207

व्यव्हारिकता के साइड इफेक्ट्स

Others

'अस्पताल में लाख वर्जित हो, घर का खाना लाता है, यात्रा से ऐन वक़्त पहले गुड बाय करने चला आता है।' समाज के व्यवाहरिक लोग।



2    14.1K 185

पैरों की लकीरें

Others

'अगर फिसलने के डर से चलने में डरेंगे, तो तेरे द्वार तक कैसे पहुंचेंगे, 'योगी' जीवन के इस मोड़ पर हमको।' बुढ़ापे की मज़बूरी ।



2    14.3K 198

मेरा क्या कसूर है

Inspirational Others

दो देशों की सीमा पर बसे गाँव में रहने वाले लोगों का दर्द



2    13.3K 159

अंतिम निरीक्षण

Inspirational Others

एक सैनिक अपने कर्मफल के लिये, स्वर्ग के प्रवेश द्वार पर खड़ा था, मरणोपरांत अंतिम निरीक्षण के लिये, भगवान से मिलने को अडा था



2    15.5K 545

वेदना और कलम

Others

ये कविता के जन्म का शब्दश: वर्णन है।



1    22.2K 425

हवा पानी

Others

'आज लड़कियों में जीरो फिगर का ट्रेंड है, और लड़कों में सिक्स पेक एब्स का चलन है।' बदलते समय की बदलती तस्वीर की सुंदर कविता



1    14.4K 190

मंजिल तक

Inspirational

यह कविता जीवन में आगे बढ़ने के लिये अथाग महेनत का महत्व समजाती है ।



2    13.5K 201

कुत्ते - अमेरिका में

Comedy Others

'कुत्ते की मालकिन, कभी आगे, और कभी पीछे दौडती है, गोद में हो, कभी कुत्ता चाटता है कभी मालकिन चूमती है।' अमरीकी कुत्तो की बात।



1    13.9K 209

मौत का उत्सव

Inspirational

मृत्यु संपूर्ण और शाश्वत है । यह कविता बताती है कि जन्म की तरह ही मृत्यु का भी उत्सव क्यों मनाना चाहिए।



2    13.6K 196

उम्र की गुजारिश है

Drama

आजकल एक अजीब, ख़ामोशी मुझे घेरे रहती है खुद की तरह ही, मुझे भी चुप रहने को कहती है



1    7.9K 224

वो आपको देख रहा है

Drama Tragedy

हर घटना का कारण है, जीवन में जो भी हो रहा है, उसको उसका काम करने दो, वो आपको देख रहा है...!



2    14.0K 183

चैक इन करने आया हूँ

Drama Inspirational

आईना देखता हूँ तो एक बूढ़ा नौजवान नज़र आता है वक़्त के थपेड़ों का मारा, कोई इंसान नज़र आता है



1    14.8K 340

निराशा बोल रही है

Drama

इन्सान हूँ मैं भी अपने काम की पहचान चाहता हूँ खुद से इश्क करता हूँ मैं भी एक मुकाम चाहता हूँ



1    7.5K 201

आई ऍम नॉट आउट

Inspirational

क्या हुआ, जो आज सुबह थोड़ी देर तक सो लिए, क्या हुआ, जो आज, सुबह की सैर पर नहीं गए।



1    7.4K 225

ये दोस्ती

Drama

वक़्त के साथ सबकी जिंदगी नये सिरे में ढल गई समय सिमट गया, जिम्मेदारी और दूरियाँ बढ़ गई



1    7.1K 175

अतीत में जीवन के रंग

Drama

जाने क्यों लेकिन कभी-कभी, दिल बहुत मचलता है, अनजाने ही ज़िन्दगी की, किताब के पन्ने पलटता है...!



1    15.5K 357

आधार से जोड़ दो

Comedy Drama

आधार आज भारतीय, नागरिक की पहचान है...!



1    522 205

क्या कहेंगे लोग

Drama Inspirational

इन्सान का सबसे बड़ा रोग, क्या कहेंगे लोग...!



1    15.1K 204

पूर्ण से सम्पूर्ण की ओर

Drama Inspirational

कल तक जिसे सम्पूर्ण समझा था आज पूर्ण रह गया है, आज जिसे सम्पूर्ण मान रहे है, वो कल पूर्ण कहलायेगा



1    13.6K 192

बुढ़ापे का मज़ा लीजिये

Drama

बेवजह की चिंता छोड़कर, बुढ़ापे का मज़ा लीजिये।



1    13.8K 193

आफत की बारिश

Drama Tragedy

इन्द्र देव इस बार कुछ, ज्यादा ही नाराज़ लग रहे हैं, मुसीबत शायद देवलोक में है, जमीन पर बरस रहे हैं...!



1    14.6K 383

ख़ुशी अपने भीतर है

Drama Inspirational

दूर क्यों तलाश उसकी, जो बिलकुल पास है, ख़ुशी तेरे पास खड़ी है, फिर भी तू निराश है...



1    14.3K 192

खुद से प्रीत लगा ले

Drama Inspirational

चिंता को तू कर दे टाटा, मन में अलख जगा ले, खुद-सा साथी नहीं मिलेगा, खुद से प्रीत लगा ले...!



2    14.1K 219

सपनों का बोझ

Drama Inspirational

एक वक़्त था जब सुनते थे, अब सपने देखना बंद करो,अब कहा जाता है सपने, नहीं देखोगे तो पूरे कैसे होंगे ।



1    14.1K 198