Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Kavi Vijay Kumar Vidrohi

तांडवजन्मा प्रलयअंश हूँ केवल रचनाकार नहीं , देशद्रोह के निजपुत्रों का कर सकता सत्कार नहीं ....

  Literary Brigadier

ढूँढ कर लाओ

Abstract

कोई अच्छा ढूँढ कर लाओ।

1    9 0

नमस्ते सदा वत्सले मातृभूमे !

Inspirational

कहीं पर बुतों को है पूजा हमीं ने कहीं कब्र पर चादरों का मकाँ है,  अल्लाह पूछे शिवाले में आकर बता मान...

2    6.7K 5

रणनाद

Others

तैयार रहो लो ख़त्म हुआउस रणभेरी का गुंजन अतिवीर बढ़ो अब रणपथ परखुद करो कालअभिनंदन कर छिन्न भिन्न हर श...

2    13.9K 6

कलाम साहब

Others

भारत की माटी का कण- कण,  युग-युग  तक तुझको ध्याएगा। जब तक विज्ञान धरा पर है,  तेरी गाथाएं गाएगा।

1    6.8K 5

घंटाघर में चार घड़ी

Others

तीन दशक पहले सुनी कविता नए भावों के साथ छोटी नवीन रचना...

1    5.6K 2

"कहो तो ना लिखूं"

Others

संविधान का जर्जर तन मैं, अंधों को दिखलाता हूँ। बहरों की बस्ती में पीड़ा, लोकतंत्र की गाता हूँ।...

1    7.2K 5

"कलम और हम"

Inspirational

बेशक़ मैं जुगनू हूँ लेकिन, रवि से नयन मिलाता हूँ तमसकाल का अपना जीवन, उसकी हार दिखाता हूँ

1    13.5K 3

मैंने फूल नहीं साधे...

Inspirational

भविष्य के स्वप्न भूतकाल की पीड़ा को धूमिल ज़रूर कर सकते हैं, मिटा नहीं सकते... 

2    13.5K 7

कविमति

Others

तब तब मेरी कलमें आँसू को स्याही कर देती हैं...............

1    20.6K 6

दो साये "एक मार्मिक दृश्य चित्र"

Others

रख दिये हैवान ने दोनों खिलौने तोड़कर। देखने वाला समूचा दृश्य सारा मैं ही था। एक लज्जा के तले जो दब रह...

2    13.5K 5

“दिल को हिंदुस्तान करूँ”

Inspirational Others Tragedy

आज देख लो भारत अपनों ही से बाजी हार रहा जाने दो झूठी आशाऐं फिर वो कश्मीर उधार रहा,,,,,

2    170 5

श्री रामधारी सिंह दिनकर (श्रृद्धांजलि)

Others Inspirational

बिहार चुनाव के कीड़ों की भूख इतनी बढ़ चुकी थी,जातिवाद की फसल इतनी विकसित हो चुकी कि, अब कवियों की जाति...

1    14.1K 9

काव्याग्नि

Others

तांडवजन्मा प्रलयअंश हूँ केवल रचनाकार नहीं , देशद्रोह के निजपुत्रों का कर सकता सत्कार नहीं .............

1    20.3K 4

सहिष्णुता

Inspirational Others Tragedy

यही फलन है जब नवपीढ़ी आँसू से सन जाती है सहिष्णुता जब हद से बढ़ती कायरता बन जाती है                   ...

1    20.4K 4

बहरों की बस्ती

Inspirational Others

संविधान का जर्जर तन मैं अंधों को दिखलाता हूँ । बहरों की बस्ती में पीड़ा लोकतंत्र की गाता हूँ ।       ...

2    13.5K 5

शूलों का विक्रेता

Inspirational Others

संविधान में आग लगा दो यहाँ निर्भया रोती है                            लुप्त दामिनी लोकतंत्र के दूषित...

2    20.4K 6

हिंदी

Inspirational

नवलेखकों का अंग्रेजी के तरफ बढ़ता प्रेम मान्य है परंतु हिंदी से प्रेम ना कर पाना उचित नहीं । - विद्रो...

1    20.6K 3

द्रास विजय (१९९९) - युद्धचित्र (सजीव रचना)

Inspirational Others Tragedy

द्रास चोटी पर विजय पर एक युद्धदृश्या - एक सजीव चित्रण 

3    20.4K 4

शर्मनिरपेक्ष

Others Tragedy Inspirational

प्रसंग-कवि द्वारा एकमंत्री के पैरों का स्पर्श ,एक ज़हर लगी रचना निवेदित कर रहा हूँ ।

1    13.5K 3

चिरप्रतीक्षा

Inspirational

रोम रोम को झंकृत कर देने की शक्ति समाहित किये हुऐ आपके प्रिय कवि विद्रोही का श्रृंगार और करुण रस का ...

2    20.2K 10

"दहशत के मंज़र"

Others

आतंकवाद से घिरे मंज़रों में सामान्य जन की पीड़ा को प्रदर्शित करती एक रचना !!!!!!! 

2    13.8K 5

दिल्ली कब शर्मिंदा होगी ?

Others

सैनिकों के बलिदान पर कोई सकारात्मक प्रतिक्रिया नेताओं से नहीं ॥।

1    20.3K 6

प्रेमक्षुधा

Others Romance

छोटे छंद की मनमोहक रचना , "आजा  आ  अब  आ भी  जा "

1    14.1K 12

मैं अभिमन्यु का वंशज

Others

रह रह कर माँ शारदा का आशीष कुछ समय पूर्व पा चुके कलमकार , नवोदित रचनाकारों का स्वागत करने के बजाऐ ,च...

2    14.3K 6

अंधश्रृद्धा

Others

आज के समय में देवीय श्रृद्धा इंसानों के पाखंड तक सीमित हो के रह गई ,कभी कभी तो लगता मानों कलम त्याग ...

1    13.5K 9

हिंदी

Others

सुना था हिंदी मातृभाषा है मात्र भाषा नहीं, परंतु २१वीं सदी में यह केवल अनमोल वचन की भाँति प्रतीत होत...

1    14.6K 5

कौन है ?

Others

एक प्रतीकात्मक रचना जो इंगित करती है एक व्यक्तित्व को ॥॥।

2    13.5K 6

सहमा - सहमा

Others

आतंकवाद से उपजे आम आदमी के डर को शब्द देने का प्रयास ॥॥

2    20.8K 7

मैं नागरिक हूँ

Others

देश का एक बड़ा जनसमूह इसी मानसिकता से ग्रस्त है,सहमत हों तो अवश्य प्रतिक्रिया दें ।आपके समक्ष प्रस्तु...

2    13.2K 10

कन्या-भ्रूण की व्यथा

Others

  सभी काव्यप्रेमियों को एक ओजकवि की करुण-रस सी कविता समर्पित करता हूँ उस विषय पर जो मानवजगत के लिऐ अ...

2    20.2K 4

सपने

Others

सपनों का अपनों और रिश्तों से संबंध को दर्शाती एक रचना !!!!

1    7.2K 11

दो साये (सदृश्य रचना)

Others

“ दो साये” (सदृश्य  कविता ) एक हृदयविदारक घटना का चित्रण एवं करुण रस की कविता का सदृश्य रूप ॥॥

2    20.4K 5

दोषी कौन

Others

भारतीय की दयनीय स्थिति पर तीखा कटाक्ष ॥॥

2    191 13

लक्ष्मीपुत्रों की प्रतीक्षा

Others

भारत में बचपन की दयनीय स्तिथि के ज़िम्मेदार धनकुबेरों पर तीखा कटाक्ष ॥॥

1    13.9K 7

आक्रोश

Others

अतिनवीन रचना जिसमें “तप्तरुधिर के भाग्यकोष” नौजवानों का सम्बोधन है ॥॥

1    21.1K 3

कलाम साहब को श्रद्धांजली

Others

आज भारतवर्ष उस क्षति के क्षणों की पीड़ा सह रहा है ,जिसकी पूर्ति शायद कभी ना हो पाऐगी !! उस महान व्यक...

1    13.8K 4

तन्हाई (देशभक्ति)

Others

"तन्हाई" अक्सर श्रृंगार का विषय माना जाता रहा है , परंतु इसे ओज का रूप दे पाने का एक छोटा सा प्रयास ...

2    20.5K 5

काव्यसृजन

Others Comedy

हिंदी काव्य मेंअंग्रेजी को शामिल करने वाले कवियों पे कटाक्ष ॥।

1    14.0K 4

अभिमन्यु के वंशज

Others Action

नवोदित कवियों के उत्साहवर्धन हेतु रचित रचना जो एक देश के सुनामधन्य वरिष्ठ कवि को मेरा प्रत्युत्तर भी...

2    13.9K 6