Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



Saroj Tiwari

  Literary Colonel

कलुषित इतिहास

Others

सहनशीलता भी काँप उठी है तेरी दुष्कृत्य कृत्यों से.............   

1    6.5K 3

मैं बनी तुलसी

Others

मैं बनी तुलसी

1    6.6K 5

झीनी सी वो साड़ी

Others

झीनी सी वो साड़ी जर्जर सी हो गई कितनी पुरानी और मलिन लगती है सूई और धागे से सिल नहीं सकती क्योंकि,  ...

1    13.0K 5

मुझे याद है

Others

झुरमुट से झाँकती तेरी चंचल निगाहें बगिया में महुआ तले बैठ कर तेरा बेसुध हो जाना अमुआ का बौराना और ते...

1    6.7K 5

विस्मृत हुई यादें

Others

  असीमित प्रेम अमूल्य अतुल्य अद्भुत स्नेह है अवचेतन मन में आदर्श अदृश्य छवि है अस्तित्व तुम्हारे नेह...

1    6.7K 5

मानव जीवन एक प्रश्न चिह्न

Others

जीवन मानव का क्यों  ??? प्रश्न चिह्न है बना हुआ जीने के ढंग हैं पृथक  पृथक फिर भी जीवन में उथल पुथल ...

1    13.2K 6

उज्ज्वल सवेरा

Others

शराफ़त का चोला ओढ़े शक्ल ले रक्खा है शरीफों का .............. इंसान की खाल में भेड़िया घूमा करते हैं...

1    13.8K 6

ठोकर

Others

मैंने जिन्दगी में जाने खाई है कितनी ठोकर हर बार बस यही सोचा मायूसीयों में खोकर  

1    7.1K 8

गरीबी

Others

एक बेबसी के जैसी सब देखते हैं मुझको घृणा की दृष्टियों से

1    13.0K 6

रचनाएँ

Others

लहराऊँ इस गुमान में  फलों से लदे हुए  आम ,अमरूद ,🍎सेब  और अनार  अपने घमण्ड में चूर 

5    14.1K 11