Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,



प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी'

मैं प्रियंका दुबे 'प्रबोधिनी' गोरखपुर, उत्तर प्रदेश। मैं कलमकार हूँ।

  Literary Colonel

फेसबुक का प्रेम

Classics

छेड़छाड़ चलता यहाँ, बदल रही तकदीर।

1    256 4

मेरे प्रियतम

Romance

बसे तुम दिल में जब से हो कहाँ रहता सही कुछ भी।

1    122 22

"यादें"

Romance

काश कि फिर मैं कॉफी मग से अपने हाथ सेंकती फिर अपने गरम हाथों से यूँ ही। ..

1    125 24

गर्व नहीं करे तो शर्म क्यों ?

Abstract

भावों का सुंदर सा भरा पिटारा, कैसे लिखोगे ? एहसास सारा।

1    197 22

जिंदगी से चाहते क्या हो

Romance

नहीं भूले अगर तो दुश्मनी से चाहते क्या हो।

1    178 25

"के सिवन"(इसरो चीफ)

Others

हाँ ! प्रियवर ये वादा मेरा, मैं तुझसे मिलने आऊँगा।

2    193 36

"ग़ज़ल"

Others

चलो अब छोड़ भी देते सनम तकरार की बातें, रुको कुछ देर बैठो दोस्ती से चाहते क्या हो।

1    293 18

रक्षासूत्र

Inspirational

ज़िन्दगी में दुख न आये, साथ खुशियों का न छूटे।

1    127 5

गीत

Tragedy

मिलकर गीता, कुरान हम बाइबिल पढ़े, आओ फिर से नई प्रीति दिल में गढ़े। रोके हम, जो सितम हो रहा देश ...

1    150 10

एहसासों का सफ़र

Classics

बस फिर, बहुत सहज होगा तुम्हारे लिए मुझे भूल पाना बिल्कुल सम्भव असम्भव कुछ भी नहीं होता।

1    161 10

जय बोलो

Inspirational

प्यार के दो फूल खिलेंगे खून से सींचे, माटी में।

1    177 2

"ग़ज़ल"

Romance

आँखो में बस जाऊँ मैं, मुझको वो पैमाने दो।

1    318 1

हिन्दुस्तान

Inspirational Children Stories

हिमालय मस्तक है जिसका गंगा जिसकी अभिमान है हम इस देश के वासी हैं हमको इसपर गुमान है

1    199 1

जिन्दगी की रेत

Inspirational

शुक्र हैं कि मुस्कान ने कभी साथ न छोड़ा मेरा, मैं हर रोज़ और भी ज्यादा निखरती चली गई।

1    249 1

वर्षाऋतु

Abstract

आग उगलता भानु भी, ऐसे हुआ विलुप्त। गर्मी से राहत मिली, पड़ा रहा वो सुप्त

1    350 0

अधर

Others

कहे राधा कि सौतन है, कन्हैया बाँसुरी तेरी

1    234 0

नमो नम:

Inspirational

जिन्होंने कभी बैंक न देखा, बदली उनके हाथों की रेखा खाता जन-धन का खुल रहा, सच में विका...

1    174 0

तेरी यादें माँ

Others

माँ कई रातों की जगी, आँखों में ममता की चमक, मेरी एक मुस्कान पे, सब कुछ भूलकर मुस्कुरा दे...

1    180 3

ग़ज़ल

Tragedy

अगर मिलता न तू हमदम समझ लो, मेरा ये दिल भी एक खाली मकान था।

1    76 3

इश्क

Romance

मुलाकात की कशिश लिए व्याकुल होती प्रेमिका

1    51 1

स्त्री

Others

स्त्री क्रोध को पीने वाली प्रेम की परिणति है, वह है तो जीवन में सौन्दर्य है अनुरति है।

1    47 0

जल है तो कल है

Inspirational

जल एक तिहाई....काया है, जल से जीवित सब माया है। जल सूख गया तो क्या होगा?- जल से वृक्ष की......

1    93 4

तुम्हारे मन से

Abstract

उसके पास है हर मर्ज़ का मुकम्मल इलाज।

1    289 0

प्रकृति संरक्षण

Inspirational

प्रकृति हित करें कुछ समय दान कुछ श्रम दान !

1    71 1

रूहानी प्रेम

Romance

अगले कई जन्मों तक अनन्त प्रेम की अग्नि में दहकते रहना है।

1    162 0

गर्मी

Tragedy

रोटी दोनों जून की, तरस रहा भगवान।

1    222 25

स्त्री शक्ति

Inspirational

दुष्ट का ही अन्त कर दो, परन्तु अब- मूक मत बनो.........।

1    23 0

नदी स्वच्छ अभियान

Inspirational

प्राणों से भी प्रिय रहे, जल जीवन आधार बूंद बूंद रक्षित करो इन्हें बचाओ यार।

1    119 1

"मैं औरत हूँ"

Abstract

मुझे महज एक वस्तु मत समझना व्यंग बाणों का घातक प्रहार भी सहती हूँ। खिलौना नही हूँ मैं!

1    404 60

मिलाकर नज़र कुछ चुराकर ले गया

Drama

कदम-दर-कदम साथ चलना मिरे मिले तुम मुझे हौसला मिल गया।

1    164 18

" नदी जीवन "

Children Inspirational

कसम खाओ न फेकोगे कुड़ा तुम तो नदियों में, बसाओगे इन्हे दिल में बसे अब जान नदियों में। सभी से है निव...

1    385 25

मैं यमुना हूँ

Inspirational

मैं जीना चाहती हूँ मेरे बच्चों तुम्हारे लिए फिर से जीवनदायिनी बनना चाहती हूँ मेरे उजड़े किनारों क...

1    66 1

स्त्री

Inspirational

अत्यन्त सहर्षता के साथ इन जिम्मेवारियों को स्वयं के कंधों पर ढोती "स्त्री"।

1    356 46

अभिनन्दन

Action Inspirational

बन के चन्दन सा सजे, भारत माँ के भाल।

1    84 3

जय हिन्द

Inspirational

इनकी हरकत देखकर, भारत माँ भी लजाई हैं। आपस में ही फूट डालते, ये कैसे अपने भाई हैं।

1    230 26

अमर सुहागन

Action

सबक इक बार फिर से अब सिखाना भी जरूरी है झुको मत सामने उनके किसी के हाथ मत जोड़ो।

2    120 5

इजहारे इश़्क

Romance

कैसे मना करूँ बता इस बार यार को- इस बार दिल मेरा उसे स्वीकार कर लिया

1    197 9

मातृ नदी

Drama

माता नदियाँ हैं सभी, वृक्ष पिता की छाँव। इनकी रक्षा सब करें, रहें शहर या गाँव।।

1    93 2

"सैनिक की अभिलाषा"

Inspirational

हजारों बार जन्मूँ मैं हजारों बार मर जाऊँ-- करूँ इस देश की सेवा, कि ऐसा हो जतन मेरा।।

1    104 1