यूं ही नहीं दिल को लोग गुस्ताख कहते हैं इसकी तो आदत है सौ बार टूट जाए पर कभी सबक नहीं सिखता

By Sonam Kewat