जब आने का वक्त था तो तुमने कभी पूछा ही नहीं अब जाने के लिए जाने के लिए परमिशन किस बात की

By Sonam Kewat