काश के हम मुफ़लिस होते पास इश्क़ की पुंजी न होती खुदा से तुझे ख़ैरात में पाते रईसोमें अपनी भी गिनती होती! लेडी़ जिब्रान

By Lady Gibran