एक डोर है जो तुम से बंधी हुई है वरना हमें अपनी ओर खींचने वालों की कमी नहीं थी

By Sonam Kewat