रिश्तों में बोझ तो सिर्फ जज्बातों का था जिन्हें आंसुओं ने हल्का कर दिया

By Sonam Kewat