वह बीमारी है, वही मेरा रोग है। वह हकीम है, वही मेरा वैद्य है। ना जाने कैसा यह हमारा संजोग है।

By Sonam Kewat