मासूमियत जिंदा थीं मुझमें तो लोग दिल दुखाते थे अब हम कठोर है तो लोग मासूमियत का पाठ पढ़ाते हैं

By Sonam Kewat