एक जमाना था जब रुतबा अपना था पर नाम गैरों का पर आज का दिन है जब रूतबा लोग करते हैं पर नाम अपना है

By Sonam Kewat